Rhythm

Bemausam

बेमौसम ही बर्सात हुइ जब
बेमौसम बून्दे चख ली शायद
कि बेमौसम रुख़ मुड़ता गया
न जाना मैने कब वक्त बढ़ता गया